logo

आखिर बीडीओ की कुर्सी पर 7 मिनट तक बैठकर ही माना बंदर

             यूं तो प्रखंड कार्यालय में प्रखंड विकास पदाधिकारी के समीप रोज  फरियादियों की भीड़ लगती है लेकिन शुक्रवार को हिसुआ के प्रखंड विकास पदाधिकारी रंजीत कुमार वर्मा के सामने एक बंदर घंटा भर से ज्यादा देर उनकी कुर्सी पर बैठने की जिद में बैठा रहा। घंटा भर बीत जाने के बाद बंदर आखिर बीडीओ की कुर्सी पर बैठकर ही चैंबर से बाहर आया वह भी 7 मिनट तक कुर्सी पर अासीन रहने के बाद।
            शनिवार को एक बंदर हिसुआ बजार से भटकता हुआ करीब दो बजे प्रखंड कार्यालय स्थित बीडीओ के चैंबर में पहुंच गया । बीडीओ रंजीत कुमार वर्मा के सामने टेबुल पर बैठ गया। कुछ देर तक कार्यालय के कर्मचारी बंदर को कौतूहलवश देखते रहे। बाद में घंटा भर से ज्यादा बीत जाने के बाद भी बंदर जब टेबुल से नहीं उतरा तो कर्मचारियों ने उसे कक्ष से निकालने का प्रयास किया लेकिन बंदर टस से मस नहीं हुआ। इस दौरान प्रखंड विकास पदाधिकारी ने बंदर को खाने के लिए बिस्किट , बे्रड आदि भी दिया । लेकिन बंदर है कि उसे छूआ तक नहीं। जैसे वह किसी बात को लेकर रूठा हुआ हो। काफी मशक्कत के बाद भी बंदर जब नहीं निकला तो बीडीओ चैम्बर से बाहर निकल गए ।
           बंदर शायद इसी का इंतजार कर रहा था और मौका मिलते ही बीडीओ की कुर्सी पर बैठ गया। पूरे सात मिनट तक बंदर बीडीओ की कुर्सी पर ठाट से बैठा रहा । इसके बाद वह कुसीर् से उतरकर बाहर निकलर चलता बना। बंदर के इस कौतुक को देखकर बीडीओ, प्रखंड कर्मी सहित उपस्थित लोग अचंभित रह गए। बंदर ऐसा कर रहा था जैसे वह कुर्सी पर बैठने ही आया था । क्योंकि करीब डेढ घंटा कार्यालय में बीताने के बाद भी बंदर ने कोई छति नहीं पहुचाई। यह घटना हिसुअा बाजार में चचार् का िवषय बना रहा।

सम्बंधित खबर