logo

7 माह के संदीप को है हर्ट ब्लाॅकेज, इलाज के लिए पैसे नहीं

नवादा प्रखण्ड के कुरमा निवासी सुभाष कुमार का पुत्र 7 महीने का है। लेकिन जन्म से ही वह हृदय रोग से ग्रसित है। चिकित्सकों के अनुसार वल्व में उम्र के अनुसार जो प्रोग्रेस होनी चाहिए वह नहीं हुई। संदीप के पिता सुभाष बताते हैं कि जन्म के दो महीने बाद उसे निमोनिया हो गया था। निमोनिया का इलाज कराने नवादा के एक चिकित्सक के पास गए तो पता चला कि उसे हर्ट में दिक्कत है। उन्होंने संदीप को इलाज कराने के लिए पटना रेफर कर दिया। लेकिन पटना से भी उसे दिल्ली रेफर कर दिया गया। उन्होंने बताया कि पटना में डा विविध भारती के पास इलाज के लिए ले गया। लेकिन डाक्टर ने बेहतर इलाज के लिए दिल्ली एम्स रेफर कर दिया। विगत तीन महीने से सुभाष मासूम बेटे संदीप का इलाज कराने के लिए दिल्ली के एम्स में चक्कर लगा रहा है। लेकिन वहां भी डेट पर डेट दिया जा रहा है।

बच्चे का होना है आॅपरेशन
सुभाष के अनुसार एम्स के चिकित्सकों ने 7 माह के संदीप का कार्डिकल सर्जरी करने को कहा है। सर्जरी के बाद वल्व बदला जाएगा। आपेशन आदि में लगभग डेढ लाख रूपए खर्च बताया गया है। लेकिन परिवार की स्थिति यह है कि डेढ़ लाख तो दूर घर का खर्च चलाने के लिए डेढ़ दो हजार रूपए भी कर्ज लेकर गुजारा करना पड़ रहा है।

– आर्थिक स्थिति है दयनीय,है मदद की जरूरत
सुभाष की आर्थिक स्थिति दयनीय है। वह अपनी जीविका चलाने के लिए नवादा में भाड़े पर टोटो रिक्सा चलाता है। लेकिन बेटे की इलाज कराने के लिए पटना-दिल्ली का चक्कर लगाने की वजह से उक्त रोजगार पर भी संकट आ गया है। वह बताता है कि रिक्सा चलाने से परिवार के लिए दो जून की रोटी किसी प्रकार से जुगाड़ हो जाती है। लेकिन इलाज के लिए डेढ़ लाख रूपए इंतजाम करना मुश्किल हो गया है। हालात ऐसी हो गई है कि इतने रूपए न इंतजाम हो रहे हैं न आॅपरेशन के लिए डेट मिल रहा है। उन्होंने सम्मपन्न लोगों से बेटे के इलाज के लिए सहयोग की अपील की है।

सम्बंधित खबर